निवेश के 6 विकल्प जो आपकी जिंदगी बदल देंगे | वचत और निवेश क्यों करे ? सुरक्षित निवेश कहाँ करें ?

निवेश के 6 विकल्प जो आप की जिंदगी बदल देंगे | वचत और निवेश क्यों करे ? सुरक्षित निवेश कहाँ करें ? 
6 life changing mathods for saving and investment




आधुनिक युग अर्थ प्रधान युग है | इसमें धन की विशेष महत्ता होती है |हमारे जीवन में दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ती हेतु धन की आवश्यकता होती है |बच्चों की शिक्षा विवाह आदि कार्यों के लिए अधिक धन की आवश्यकता होती है |अपनी आवश्यकताओं की पूर्ती के लिए लोग मजदूरी नौकरी व् व्यवसाय व् अन्य कार्यों में जी तोड़ मेहनत कर रहे है |परन्तु कभी कभी इतनी मेहनत के बाबजूद अपने पास धन का संग्रह नहीं कर पाते है |समय के साथ साथ जीवन यापन हेतु सुविधाओं की आवश्यकताए भी बढ़ने लगी है लोग अपने कमाए धन का अधिकाँश भाग परिवार की जरूरतों एवम आधुनिक भोतिक सुविधाओं पर खर्च करते है| उनके पास आधुनिक सुविधाओं को प्राप्त करने की और अपने समाज में अपने आपको संपन्न दिखाने की होड़ सी लगी होती है |
उसके लिए कुछ लोग अपनी आय से खर्च करने के अतिरिक्त बैंको से अथवा फायनेंस कम्पनियों से कर्ज भी लेते रहते है चूँकि बैंको और फायनेंस कम्पनियों ने लोगो को ऋण देने की योजनाओ को बड़ा ही आसान बना दिया है जिससे वे अधिक से अधिक लोगों से अदिकतम ब्याज कमा सकें |बैंकों ने पर्सनल ऋण गृह ऋण वहां ऋण विदेश भ्रमण ऋण आदि आसानी से प्राप्त होने बाले लोन्स को लोगों को लुभावने विज्ञापनों के द्वारा व् प्रचार प्रसार के द्वारा पहुंचा दिया है |
डिजिटल एवम ऑनलाइन मार्केटिंग के लिए लोगों को लोगो को क्रेडिट कार्ड्स  बिजिनिस कार्ड आदि को दिया जा रहा  है |जिससे की लोगों की खरीद दारी करने की झमता में अप्रत्याशित रूप से बढ़ोतरी हो रही है |

व्यक्क्ति अपनी इच्छाओं की पूर्ती और सम्पन्नता दिखाने के चक्कर में बिभिन्न प्रकार के लोन्स ले लेता है और बैंको और कंपनियों के जाल में फंस जाता है | और जीवन भर लिए गए ऋण के मूल और ब्याज को चुकाता रहता है और जीवन भर परेशानियों से जूझता  रहता है |

एवम इस ऋण लेने के कारण इसे  चुकाते चुकाते कभी भी अपने पास धन का संग्रह नहीं कर पाता है | 

यदि कोई व्यक्ति अपनी आय से एक निश्चित राशि को वाचत में रखना प्रारंभ कर दे तो शेष आय से वह अपने परिवार का खर्चा चलना सीख जाता है |और उसका ध्यान अन्य सुविधाओ की ओर नहीं जाता है जिससे वह अनावश्यक ऋण के जाल से बाख सकता है |


बचत करना   saving 






 जब कोई व्यक्ति अपनी आय का एक निश्चित भाग आने बाले जीवन के लिए सुरक्षित कर देता है | तो उसमे स्वतः ही मितव्ययता का भाव आने लगता है उसके द्वारा की गयी बचत को जव बह विभिन्न वाचत योजनाओं में निवेशित करता है तो साथ ही साथ उसको वाचत की राशि पर व्याज मिलने लगता है |लगातार वचत करने की प्रवर्ती   मनुष्य को मनुष्य में सीमित आय में कुशलता पूर्वक जीवन यापन करने और अधिक परिश्रम करने की प्रवर्ती को जन्म देती है |
यह वचत की राशि कुछ समय बाद ब्याज जुड़ने के कारण और अधिक बढ़ जाती है जिसका उपयोग अब बह व्यक्ति अपने शर के निर्माण  बच्चों की उच्च शिक्षा और भविष्य के लिए आर्थिक सुरक्षा के लिए कर पाता है  |
प्रारंभ में चाहे बचत करना अटपटा लगे परन्तु उसका यह पहला कदम ही व्यक्ती को आर्थिक स्वतंत्रता दिलाने में मदद करता है |

सही मायनों में धनवान वनने  का प्रथम कदम बचत saving  ही होता है |
धन के आभाव में जीना मुश्किल होता है परन्तु अपने कमाए हुए एवं बचाए हुए धन से अपने जीवन में कार्यों को संपादित करने के लिए व्यक्ति को किसी के सामने हाथ नहीं फैलाना पढता है और ना ही किसी के सामने लज्जित होना पडता है |

वक्त कभी भी कह कर नहीं आता है परेशानिया समस्याएं और बीमारियाँ कभी व्यक्ति के सामने आकर खड़ी हो जाती है और इन सब से लड़ने के लिए धन की आवश्यकता होती है  | अतः अच्छे और बुरे वक्त के लिए पहले से ही धन की बचत करना जरूरी होता है |


डॉग्स की बफादारी व डॉग्स के 9 रोचक जानकारिया एवं पालने योग्य नस्ले

Motivation and knowledge education क्या आप भुल्लक्कड़ है ? क्या आप भूलने की आदत से दुखी है

सबसे अधिक खुश रहने बालो का देश - भूटान (क्या जादू है इन लोगो के पास

2 अनावश्यक खर्चों को रोकना व् दिखाबा करने से वचना  

कुछ लोगों में अनावश्यक खर्चा करने की आदत होती है | ये अनावश्यक वस्तुओं की खरीद करते रहते है | चाहे उन चीजों का उपयोग एवं आवश्यकता घर में हो ही नहीं |अपने सपनों को पूरा करने के लिए अनावश्यक खर्चों को रोककर धन का अपव्यय रोकना जरूरी होता है अनावश्यक खर्च की प्रवर्ती के कारण चाहे उनकी कितनी भी आय हो हमेशा आर्थिक संकट से परेशान ही रहते है |
कुछ लोगों में अपने आप को परिवार समाज और रिश्तों में अधिक संपन्न दिखाने की होड़ सी लगी रहती है |यह बनावटीपन उनमे किसी न किसी प्रकार से खर्चो का बोझ लाद देता है  परन्तु अपनी झूठी शान दिखाने की आदत के कारण एसे लोग परेशानियों में भी अपने खर्चों को कम नहीं कर पाते है जिनकी पूर्ती के लिए उन्हें  भारी भरकम ऋण के बोझ में दबना पड़ता है|

एसे लोग वास्तविक जीवन में गरीव ही रहते है| हमेशा अपने खर्चों को नियंत्रित करने के लिए प्रिप्लानिंग करने की जरूरत होती है इसके लिए पहले अपने घर का बजट बनायें |अनावश्यक खरीददारी से बचें | आपकी आय से एक निशिचित राशि को बचत में रखते जाएँ |
आय बढ़ने के साथ साथ अपनी वाचत की राशि में भी बढ़ोतरी करना अतिआवश्यक है |


3 क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल से बचें  




आजकल लोगो में क्रेडिट कार्ड रखना और उपयोग लेना स्टेटस सिम्बल बनता जा रहा है जबकि सही मायनों में क्रेडिट कार्ड एक प्रकार का ऋण ही है | जिसके उपयोग पर बैंकें भारीभरकम व्याज एवं विभिन्न प्रकार के टेक्स बसूल करती है |फिर भी लोगो में जाने अनजाने क्रेडिट कार्ड्स का उपयोग करने में कोई हिचकिचाहट नहीं होती है |कुछ लोग अपनी किसी भी तरह की खरीद दारी को क्रेडिट कार्ड के माध्यम से करते है |
जो की एक गलत आदत है |क्रेडिट कार्ड्स से आप केवल इतनी ही राशी का खर्च करे जितनी राशि आपके पास एकाउंट में पहले से सुरक्षित हो |अथवा क्रेडिट कार्ड निश्चित समय बाद आपसे अधिकतम व्याज एवं विभिन्न तरह के टैक्स वसूल करता है जिससे व्यक्ति का  काफी पैसा बर्बाद हो जाता है |


  कर्ज ना ले 




लोगों के लिए कर्ज लेना कोई बुरी बात नहीं होता है |बैंकों और फायनेंस कंपनियों ने छोटी छोटी जरूरतों के लिए कर्ज देने का लुभावना रास्ता तैयार कर रखा है |अपनी इच्छाओं की पूर्ती के लिए समझदार लोग भी इनके भंवर जाल में फंस जाते है |यदि कर्ज आवश्यक कार्यों के लिया लिया जाए तो ही सही होता है परन्तु यदि कर्ज अनावश्यक कार्यों फिजूलखर्ची या अपने शौक मौज के लिए लिया जाए तो तो यही कर्ज आपके पूरे जीवन को बर्बाद कर देता है |और  आपको दुखी करता है | यदि आप अपनी छोटी छोटी बचत करते रहते है और उसे  सही जगह पर निवेशित करते रहते है तो समय आने पर आपको कर्ज लेने की कोई जरूरत नहीं पड़ती है और आपका जीवन हमेशा ऋण मुक्त बना रहता है |
बिना कर्ज के जीवन आपका शांतिमय और आनंदित रहता है |


बचत कहाँ और कैसे करें 

बचत करने के लिए सर्वप्रथम आपको छोटी छोटी से बचत से प्रारम्भ करना होगा | और अपने भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए की जाने वाली बचत को सही जगह एवं सुरक्षित स्थान पर ही निवेशित करना होगा | जिससे की आपका बहुमूल्य पैसा सुरक्षित वना रहे | साथ ही आपको अपमे मूलधन के साथ कुछ ब्याज भी मिलता रहे |बचत करने के लिए देश में सरकारी बैंकों  पोस्ट ऑफिस एवं सरकारी व् गैर सरकारी उपक्रमों में अनेकों योजनायें संचालित की जा रही है |आप अपनी आवश्यकतानुसार अपनी बचत का निवेश कर अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकते है |

पोस्ट ऑफिस की आर डी  योजना reccuring deposit sceme  




यह योजना लोगों में काफी लोकप्रिय है |इसमें आप प्रतिमाह अपनी आय में से एक निश्चित राशि जमा कराते रहते है |यह 5 साल की स्कीम है जिसमे आपकी रकम पर लगभग 7 % तक ब्याज मिलता है |
छोटे छोटे निवेशक इस आसान सी योजना का लाभ ले सकते है इस योजना में 5 साल बाद आपकी स्कीम मेच्योर होने पश्चात आपको एक बड़ी राशि प्राप्त होती है | 
rd छोटी रकम को बड़ा करने का अच्छा विकल्प है | यह एक small saving scheme  है  इसका एकाउंट आप पोस्ट ऑफिस में बड़ी आसानी से खुलवा सकते है |यह योजना 5 बर्षीय है परन्तु 5 बर्ष के बाद यदि आप इसे आगे और बढ़ाना चाहे तो प्रत्येक 1 बर्ष आगे के लिए भी आप इसे बढ़ा सकते है |

फिक्स डिपोजिट स्कीम fix deposit scheme  f.d.

एक निश्चित राशि को निश्चित समत के लिए जमा कराना फिक्स डिपोजिट  F D कहलाता है यह स्कीम सभी बैंको एवं पोस्ट ऑफिस में होती है एक निश्चित समय अबधि के पश्चात FD में जमा की गयी राशि के साथ निश्चित ब्याज मिलता है | बैंकें FD धारक को बैंक का एक बौंड देती हहै जिसमे उसकी जमा राशि के साथ ब्याज की राशि एवं मेच्योरिटी की तारीख भी अंकित होती है  वर्तमान में इसमें ब्याज दर 6% से 7 % लगभग है मेच्योरिटी से पूर्व विशेष आवश्यकता मेन आप इसे तोड़ भी सकते है इस स्थिति में  FD में ब्याज बचत  खाते के व्याज के बराबर दिया जाता है |
बैंको में FD स्कीम को फिक्स मेच्योरिटी के अनुसार भी बनाया है जिसमे 
80 C ke तहत टैक्स में छूट का भी प्रावधान दिया गया है परन्तु इस स्कीम को आप मेच्योरिटी से पहले ब्रेक नहीं कर सकते है |

3 पी पी ऍफ़  public provident fund 




PPF एक साधारण एवं फायदेमंद स्कीम है |ppf भारत सरकार की ईएसआई स्कीम है जिसमे आपके द्वारा जमा किये गए धन पर और मेच्योरिटी से प्राप्त धन पर कहीं भी आयकर income tax नहीं देना होता है यह 80 C के अंतर्गत टैक्स मुक्त है इसे देश का कोई भी नागरिक खुलवा सकता है |
इस खाते में कोई बह उम्र की सीमा बाधित नहीं है |PPF खाता 15 बर्षों के लिए होता है यदि कोई खता धारक इसे आगे बढ़ाना चाहता है तो आगे 5 बर्षों के लिए बढ़ा सकता है अर्थात मेच्योरिटी समय 20 बर्ष करवा सकता है |
ppf में न्यूनतम निवेश 500 रूपये है तथा अधिकतम निवेश एक लाख पचास हजार रूपये है || एक बर्ष में अधितम 12 बार राशि जमा करायी जा सकती है |
वर्तमान में ब्याज दर लगभग 7.6% है PPF एकाउंट को बैंको व् पोस्टऑफिस में खुलवाया  जा सकता है | वर्तमान में ppf एकाउंट ही एसा निवेश है जहां 80 C में छूट के साथ ही POWER OF compounding  का लाभ मिलता है |

  4  मुच्युल फंड स्कीम mutual fund scheme  




यह शेयर बाजार की निवेश योजना है शेयर बाजार जोखिमों से भरा होते हुए भी आजकल इसमें बहुत अधिक निवेश किया जा रहा है | यह फंड कई सारी कम्पनियों में एक सतत निवेश से बनता है | जिसे फंड मैनेजर चलता है | फंड हाउस  बाजार के उतार और चढाव पर अपनी निगाह बनाये रखता है | और आवश्यकतानुसार समय समय पर निवेश में बदलाव करता रहता है |


5 सिप  SIP  sistematic investment plan  

यह स्कीम भी शेयर बाजार में निवेश करने के लिए  अच्छी  स्कीम है |यह स्कीम मुचुअल फंड का ही एक विकल्प है | इसमें बाजार के प्रत्येक उतार और चढ़ाव पर निवेश किया जाता है | इस स्कीम में निवेशक को बाजार को देखना नहीं होता है बल्कि निश्चित तारीख को अपने एकाउंट से निश्चित प्रतिमाह निवेशित राशि का निवेश हो जाता है इसमें जोखिम अपेक्षाकृत कम ही रहता है | 

6  विभिन्न बचत योजनायें 

पोस्ट ऑफिस एवं बैंकों में अनेको लघु अवधि एवं दीर्घ अवधि की संचालित की जा रही है |इन योजनाओ में डाकघर मासिकआय  बचत योजना  सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम  नॅशनल सेविंग सर्टिफिकेट NSC  किसान विकास पत्र  एवं सुकन्या सम्रद्धि योजना आदि उओयोगी और महत्वपूर्ण योजनाये चलाई जा रही है | 



        बचत कर निवेश करें 
अपने जीवन को खुशहाल बनाये 

यदि यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो और आप और भी अधिक विस्तृत जानकारी चाहते है तो कृपया नीचे दिए गए comment box में  comments   करे और अपने सभी ग्रुप्स में  share  अवश्य करे |

1 Comments

Post a Comment

Post a Comment

Previous Post Next Post