know your problem for memory loss or short term memory loss and test for memory loss


Are you suffering from memory loss or short term memory loss .??? test for memory loss and  Cure your problem and home remedy 





क्या आप रोजमर्रा के कार्यो को भूल जाते है ?  क्या आप लोगो के नाम भूल जाते है ? क्या आप भूलने कीआदत से  memory loss परेशान  है ? क्या आपने महसूस किया की आपमें कुछ समय के लिए याददास्त की कमी memory loss short term   हो जाती है ? क्या आपने कभी memory loss test किया है ?या  करवाया है ? 
 सभी प्रश्नों के उत्तर  भूलने की आदत havit of memory lossके कारण एवं निवारण को जानेंगे |
यदि आप कुछ बातो को समझ कर इन प्रयोगों को अपने जीवन में करेंगे तो निश्चित ही आपकी स्मरणशक्ति  memory बड़ी तेजी से बढ़ने लगेगी | और आप भूलने की समस्या से शीघ्र के छुटकारा पा लेंगे |
 हमारी मानसिक शक्ति ही हमारी स्मरण शक्ति को प्रवाल और चेतन्य बनाये रखती है |इस शक्ति के कारण ही हमे सब कुछ याद रहता है |   हम कुछ भूलते नहीं है | 
क्या आपने दुनिया के कुछ इसे लोगो के बारे में सुना हैजिनकी स्मरण शक्ति सामान्य से भी अधिक  है |हौलैंड में 10 बर्ष के बच्चे ने 42  पेज की तीन हजार वस्तुओ की केटलोगको याद किया है |  क्या आप जानते है की मार्टिन जो बचपन से ही असाधारण स्मरण शक्ति का मालिक था | बह 14 वर्ष की आयु में गणित का महान
प्रोफ़ेसर बना | 
यूरोप के वेरान गुस्थाफ़ ने  10 वर्ष की आयु में यूरोप की 10 प्रमुख भाषाओ  पर अधिकार कर लिया था  |
वाद में वह सर्वोच्च न्यायलय का न्यायाधीश बना | 

सभी उदाहरण प्रमाण है की व्यक्ति के जीवन में स्मरण शक्ति का कितना महत्त्व है |  संसार में दुर्वल स्मरण शक्ति  weak memory से बड़ा कोई अभिशाप नहीं है  |  कमजोर स्मरण शक्ति वाला शिक्षित व्यक्ति भी अशिक्षित के सामान ही होता है वह स्मरण शक्ति के आभाव में अपनी शिक्षा का पूर्ण उपयोग नहीं कर पाता है   |  |

क्या आपको आश्चर्य नहीं होता की कैसे गायक गायिकाये स्टेज शो प र विना पढ़े लगातार गाने गाते रहते है
एक टीचर कैसे सेंकडो विद्यार्थियों का नाम याद रख पता है |  कैसे  कवि एक ही सांस् में लम्बी लम्बी कविताओ का लगातार पठन कर पाते है  |  ये सब उनकी स्मरण शक्ति का ही कमाल होता है  |

क्या आप भी अपनी स्मरण शक्ति को विलक्षण करना चाहते है    ?   जिससे आप का दिमाग भी कम्प्यूटर की तरह काम करे   |
हमारी बातों पर ध्यान से अमल करते हुए अपनी स्मरण शक्ति को बढाने  की कोशिश करे निश्चित ही आपकी स्मरण शक्ति तीव्र हो जाएगी और आपकी स्मृति का विकास होगा 

स्मरण शक्ति बढाने  के सहायक तत्व 

1 धारणा
धारणा व्यक्ति की मानसिक स्थिति से सम्बन्ध रखती है |  यदि हम कार्य सम्पादन में निपुणता और संतुष्टि लाना चाहते है तो हमें धारणा एवं मन के एकाग्रता की आवश्यकता होगी   | धारणा मन की शान्ति ;जीवन के सुख आनंद व् समृद्धि के साथ स्मरण शक्ति को प्रभावित करती है | 
धारणा का तात्पर्य व्यक्ति के मस्तिष्क की रचना तो उसकी स्मरण शक्ति स्वत  सन्गठन और प्रकृति के बारे में जानना है |यदि कोई व्यक्ति उचित रीति से प्रशिक्षित अनुशासित शिक्षित और प्रयुक्त करने का प्रयास करता है तो उसकी स्मरण शक्ति स्वत ही ही बढ़ जाती है | और कार्य संपादन उतना ही अच्छा हो सकता है |  धारणा का अर्थ है की व्यक्ति किस प्रकार अपनी शारीरिक और मानसिक शक्तिओ को विकसित करता या ढालता है  |इसके लिए सामाजिक अनुशासन  की आवश्यकता होती है |धारणा का अर्थ किसी वस्तु विषय को धारण करने की मन की क्षमता  से है | जब मन को किसी एक विषय वस्तु पर लगाया जाता है तो अन्य विषय की छटनी हो जाती है और यह हमारी स्मरण शक्ति को कमजोर नहीं होने देती है बल्कि और अधिक प्रखर बनती है |  

२  मन की शक्ति   power of  
Oughtशक्ति असीमित है नियमित आने बाले विचारो को मन व्यक्ति के अवचेतन मन   subconcius mind  मे भेज देता  है | यह अवचेतन मन 
स्मरण शक्ति का  संग्रह भण्डार है |
जब हम किसी बात को भूल जाते है की इसका नाम मुझे याद है पर जुबान पर नहीं आ रहा है तव अवचेतन मन ही उसकी सहायता करता है और तत्काल नाम का स्मरण होने लगता है | अर्थात मन की एकाग्रता एक दिशा में मन को प्रवर्तकरते हुए और उसमे शक्तिशाली विचारो का निरंतर प्रवाह करते रहने से अवचेतन मन की शक्ति बढ़ जाती है और साथ ही हमारी स्मरण शक्ति बढ़ जाती है | 

घबराहट 

जब कोई भीतरी या बाहरी समस्या व्यक्ति के मन में चिंता उत्पन्न करती है  तब मन का सामान्य कार्य बाधित होने लगता है जिससे व्यक्ति की शारीरिक क्रियाविधि बिगड़ने लगती है | इससे चिंता और भय का भाव जाग्रत होने लगता है |
उसके सोचने समझने की एवम निर्णय लेने  की झमता कम हो जाती है | जिससे परिणाम की चिंता उस व्यक्ति में घबराहट को जन्म देती है | और उस व्यक्ति की याददास्त कमजोर  memory loss  पड़  जाती है |

घबराहट को दूर करने के लिए साधारण सा उपाय कारगर सिद्ध होता है |
 आप फर्श पर  बैठ  जाए | फर्श पर तनकर बैठ जाए ताकि आपका मेरुदंड और सर एक सीध में रहे |  दोनों नासिका छिद्रों से श्वास छोड़ते हुए सारी वायु को वाहर निकाल दे |  जब सारी वायु बाहर निकल जाए तव दोनों नासिका छिद्रों से श्वास खीचे |  एक गहरी लम्बी श्वास ले | श्वास लेने की क्रिया के बाद श्वास छोड़ें | 
यह क्रिया 10-१५ बार करें ध्यान रहे की श्वास लेने व् छोड़ने की क्रिया मंद और धीमी हो |  इस क्रिया से आपकी घबराहट पर नियंत्रण होगा | और आपकी स्मरण शक्ति बढ़ने लग जायेगी |  

प्रसन्नता  happiness




स्मरण शक्ति बढ़ानेके लिए ख़ुशी या प्रसन्नता को महत्वपूर्ण माना  गया है | प्रसन्नता की स्थिति में व्यक्ति का मस्तिष्क तीव्रता से कार्य करता है | व्यक्ति जो भी याद करता है वह  उसके मस्तिष्क पटल पर उभर आता है  कहा गया है      
                       हर्षो मनः प्रशादः 
अर्थात प्रसन्नता ही मन की प्रशाद स्थिति है प्रसन्नता वस्तुओ के प्राप्त होने तथा व्यक्तियों के मिलने से उत्पन्न चित्त के प्रसन्न होने की स्थिति होती है |व्यक्ति की इच्छापूर्ति  प्रिय व्यक्तियों के संयोग  कृपा प्राप्ति  उत्तम भोजन व् वस्त्र आदि आर्थिक  लाभ की प्राप्ति मान सम्मान अवम मन का संतोष मिलने मानसिक शक्ति की उपयोगिता अर्थात स्मरण शक्ति बढती है |  
प्रसन्नता के लक्षण व्यक्ति के समस्त शरीर में दिखाई देते है | 
अतः जिन व्यक्तियों की स्मरण शक्ति कमजोर हो तो उन्हें सदैव प्रसन्नचित्त रहना चाहिए |   

     मुस्कराने के मकसद न ढूढो  वरना  जिन्दगी यूँ ही कट जाएगी 
    कभी बेवजह भी मुस्कराकर  देखो 
    आपके साथ जिन्दगी भी मुस्कराएगी  


5   ध्यान   meditation 





हमे वो ही घटना या बाते याद रहती है जिन पर हम विशेष ध्यान देते है| ध्यान व्यक्ति के जीवन में मन को एकाग्रचित्त होकर किसी विशेष वस्तु स्थिति या घटना पर अपना भाव चिन्हित करता है |जब मन किसी विशेष स्थिति में एक अवस्था या वस्तु को विशेष ध्यान देता  है तो उसका चारो ओर से मन को गतिमान करने की स्थिति समाप्त हो जाती है और ध्यान दी गयी स्थिति व्यक्ति के subconcius mind अवचेतन मन में अपना स्थान बना लेती है |आवश्यकता होने पर वह व्यक्ति के मस्तिष्कपटल पर आ जाती है | अतः ध्यान   व्यक्ति की स्मरण शक्ति बढ़ने में बहुत महत्वपूर्ण है |कभी कभी प्रखर स्मरण शक्ति होने पर भी हमें वो बात याद नहीं आती है जिस बात पर हमने अधिक ध्यान नहीं दिया था | 

प्राचीनकाल से मन को एकाग्रचित्त करने के उपायों की खोज की जा रही है |  ध्यान के लिए रजस और तमस गुणों का दमन करना आवश्यक होता है क्योकि ये गुण चित्त को चलायमान रखते है  जब व्यक्ति में सत्व गुण का अधिकार तमस और रजस गुणों पर होने लगता है तव वह व्यक्ति ध्यान से युक्त हो जाता है और एकाग्रचित्त अवस्था में  ध्यान घटने लगता है |

ध्यान के लक्षण   symptoms of meditation

1 ध्यान में चेतना का क्षेत्र सिमित हो जाता है  

2  ध्यान से चेतना की विषय वस्तु स्पष्ट हो जाती है 
 3  ध्यान से प्रकाश का कारक विकसित हो जाता है 
4 ध्यान शांति स्थापित करता है 
 5 ध्यान से व्यक्ति की स्मरण शक्ति बढती है 


 स्मरण शक्ति बढाने के लिए कुछ कार्य आवश्यक है 
पर्याप्त नींद लेना 
प्रत्येक व्यक्ति को 24 घंटे में से कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद लेना आवश्यक है यदि नींद पूरी नहीं हो पाती है तो व्यक्ति थकान का अनुभव करता है और उसकी मानसिक सक्रियता कम हो जाती है जिससे उसकी स्मरण शक्ति कम  memory loss हो जाती है |  अतः  व्यक्ति को प्रतिदिन पर्याप्त नींद लेनी चाहिए | 
2 नशे की लत से छुटकारा  
हानिकारक पदार्थो जैसे शराब  गुटखा धुम्रपान अवम अन्य किसी भी प्रकार के नशे के सेवन से व्यक्ति की  स्मृति कम होने लगती है व्यक्ति को नशे की लत लगने लगती है | नशे की वस्तुए उसके मस्तिष्क को निष्क्रिय बनाती है जिससे व्यक्ति की स्मरण शक्ति का ह्रास memory loss  होने लगता है  |

पर्याप्त पानी पीना 
व्यक्ति को शारीर की उर्जा एवं ताप को नियंत्रित बनाये रखने के लिये पर्याप्त पानी पीना चाहिए |  पानी शारीरिक और मानसिक शक्ति का स्रोत है  | अतः प्रत्ये व्यक्ति को औसतन दिन में 8 से 10 गिलास पानी अवश्य पीना चाहिए |कहते है  स्वस्थ मस्तिष्क स्वस्थ शारीर में निवास करता है | पानी की पर्याप्त मात्रा शारीर के साथ मस्तिष्क के तंतुओ को ऊर्जा प्रदान करती है | जिससे शरीर में उर्जा का स्तर बढ़ता है |
पानी शारीर से विषैले एवम अपशिष्ट पदार्थो को हटाने में सहायक है 
पर्याप्त पानी पीने से  ह्रदय स्वस्थ रहता है सिर  दर्द  गुर्दे की पथरी  माइग्रेन एवम अनिंद्रा जैसी बीमारियों से बचाव होता है जब शरीर स्वस्थ रहेगा तो व्यक्ति की मानसिक स्वास्थ  भी  अच्छा होगा | जिससे उसकी स्मरण शक्ति का विकास होगा | 

नियमित व्यायाम 




व्यक्ति को प्रतिदिन  कुछ समय निकालकर नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए | नियमित व्यायाम  योग तथा प्राणायाम करने से शारीर में ओक्सीजन की मात्रा का प्रवाह अच्छा होता है  मस्तिष्क की क्रियाविधि के लिए ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति आवश्यक है | व्यायाम योग और प्राणायाम से मस्तिष्क को ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में मिलती रहती है  मस्तिष्क में ऊर्जा का स्तर संतुलित रहता है जिससे 
 मस्तिष्क की कार्य झमता सही रहती है और साथ ही उसकी स्मरण शक्ति प्रखर बनी रहती है |

अधिक चिंता न करना 

स्मरण शक्ति की कमी का महत्वपूर्ण कारन व्यक्ति का व्यर्थ में अत्यधिक चिंता करना है | अत्यधिक चिंता करते रहने से मानसिक ऊर्जा का ह्रास होता रहता है जिससे मस्तिष्क को क्रियाशीलता के लिए पर्याप्त ऊर्जा नहीं मिल पाती है |अधिक चिंता करने से अनेको प्रकार के मानसिक रोग पनपने लगते है | क्स्भी कभी व्यक्ति अवसाद की स्थिति में भी चला जाता है |  व्यक्ति का आत्मविश्वास कम होने लगता है और धीरे धीरे उसकी स्मरण शक्ति कमजोर    memory loss  हो जाती है |

स्मरण शक्ति बढाने के लिए घरेलु उपाय 

1 बादाम 




एक गिलास पानी ले  |  उसमे 5 से 7 बादाम की गिरी गला दे | रात भर पानी बादाम रखने के बाद सुबह बादाम के छिलके उतार ले |बादामो को बारीक पीस ले |इसे 2 चम्मच शहद के साथ दूध में मिलाकर पीये |
यह आपकी स्मरण शक्ति एवम मानसिक दुर्बलता को सही करेगा |

2 अखरोट 




दिमाग को तेज करने के लिए अखरोट का सेवन बड़ा ही फायदेमंद रहता है | एक व्यक्ति को 20 ग्राम अखरोट और 20 ग्राम किशमिश रोजाना खानी चाहिए |  इससे आपका दिमाग व् याददास्त अच्छी हो जाती है |

3 काली मिर्च  
 



30 ग्राम मक्खन में मिश्री मिला ले | इसमें 5 से 7 काली मिर्च का चूर्ण मिला ले | फिर  इसे खाए | इससे काम करने में मन लगता है |  और दिमाग की दुर्वलता दूर होकर याददास्त में बढ़ोतरी होती है |

घी की मालिश  




दिमाग की कमजोरी दूर करने के लिए गाय के शुद्ध घी का उपयोग श्रेष्ठ होता है | घी की नियमित रूप से मालिश करे | इससे दिमाग तेज हो जाता है और स्मरण शक्ति में अप्रत्याशित ढंग से बढ़ोतरी होती है |

आजकल अपनी मेमोरी को जांचने के के लिए बहुत सारे  apps और memory loss test उपलब्ध है आप test for memory loss से अपनी मेमोरी की जांच कर सकते है | और आप अपनी memory loss  की समस्या से छुटकारा पा सकेंगे |



 

यह जानकारी सभी के लिए स्मरण शक्ति बढाने हेतु एवं जीवन में प्रसन्नता के उद्येश्य से लिखी गयी है यदि आपको जानकार अच्छी लगे तो कृपया comments करे एवं अपने सुझाव comments box में दे | अपने  दोस्तों को   share  करे |

2 Comments

Post a Comment

Post a Comment

Previous Post Next Post