bhutan सबसे अधिक खुश रहने बालो का देश - भूटान bhutan

bhutan सबसे अधिक खुश रहने बालो का देश - भूटान bhutan
  ( Most happiest country  Bhutan  )


आधुनिक युग मे आर्थिक भौतिक बाद  और टेक्नोलॉजी बड़ी तेजी बढ़ रही है सभी लोग अच्छा जीवन स्तर बनाने के लिए आर्थिक उन्नति में लगे रहते हैं ।आधुनिक युग मे मशीनीकरण के विकास से लोगो के जीवन मे सुख सुविधाएं लगातार  बढ़ रही हैं। 
हर एक व्यक्ति अपना आर्थिक विकास करने व सुबिधाये बढ़ाने में निरन्तर लगा हुआ है परंतु जैसे जैसे जीवन मे आर्थिक विकास एवं भौतिक सुविधाएं  बढ़ रही हैं लोगो के जीवन से शांति और खुशी गायब हो रही है । 



क्या आर्थिक उन्नति के बाद  असली सुख शांति मिल सकती है ? 

संसार के विकसित देशों के लोगो का आर्थिक स्तर और समृद्धि तो बढ गयी परंतु  साथ ही मानसिक स्तर की गिरावट और तनाव पूर्ण जीवन शैली  मे बढ़ोतरी हो रही हैं। 
लोगो को मानसिक बीमारियों  पारिवारिक तनाव एवम सामाजिक संबंधों में तनाव बढ़ा है । 

क्या लोग मशीनी युग मे मशीन बनते जा रहे हैं ?? 

लोगो मे सच्ची  खुशी और शांति क्यो गायब होती जा रही है  ?? 

क्या जीवन मे बिना  आर्थिक विकास और मशीनों के विना बहुत ही कम संसाधनों के  जीवन जीना और खुश रहना सम्भव  है ? ? 

क्या कोई देश ऐसा भी है जो केवल प्राकृतिक संसाधनों  पर निर्भर रहकर यानी अविकसित हो कर भी यहाँ के  निवासी खुश रहते हैं ??
आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि एक देश ऐसा भी है जहाँ आर्थिक उन्नति भी नही है टेक्नोलॉजी भी नही है परंतु यह देश संसार के विकसित और विकासशील देशों के मुकाबले  बहुत अधिक " खुशहाल " है  ।

सबसे अधिक खुशी बाला देश  - भूटान (  most happiest country -.  Bhutan   )

आपको जानकर आश्चर्य होगा  कि  भूटान  bhutan  ऐसा देश  है जिसमे  सबसे अधिक खुश रहने बाले लोग रहते हैं  यानी  यहां विना  आर्थिक विकास एवं सुख सुविधाओं के बिना यहां के निवासी संसार के अन्य देशों के मुकाबले सबसे अधिक खुशहाल हैं अभी भी भूटान  bhutan  में विकास दर  ( GDP ) का आधार आर्थिक न होकर  खुशी की दर  (  happiness index ). से माना गया है  


भूटान - भौगोलिक स्थिति  (  bhutan  Geographical location )

भूटान हिमालय पर वसा हुआ दक्षिण  एशिया का एक छोटा सा देश है यह चीन और भारत के बीच वसा हुआ है  भूटान का अधिकांश भाग पहाड़ी क्षेत्र में आता है केवल  इसका थोड़ा सा दक्षिणी भाग ही समतल क्षेत्र है । इसलिए यहां की  अधिकांश निवासी पहाड़ी क्षेत्र में  निवास करते हैं 

भूटान की राजधानी एवम राष्ट्रभाषा (  bhutan capital  and national   language



भूटान की राजधानी   थीम्फू  है देश की राष्ट्रभाषा जोडखा  है  । भूटान में राजप्रमुख राजा का पद वंशानुगत होता है । परंतु राजा के पद को विशेष स्थितियो में यह कि संसद  शोगड़ू के द्वारा तीन चौथाई वहुमत से हटाया जा सकता है ।


अर्थव्यवस्था  एवम धर्म  (  Bhutan Economy and religion )

भूटान की अर्थव्यवस्था  bhutan economy   का अधिकांश भाग यहां के प्राकृतिक स्रोत्रों पर निर्भर है । 
यहां की अर्थव्यवस्था में कृषि  वन एवम पानी से उत्पादित पनबिजली की 75%हिस्सेदारी है ।
भूटान में 90% से अधिक लोग कृषि कार्य करते हैं ।
भूटान की मुद्रा  bhutan currency   दुल्ट्रम  है । इसका विनिमय भारतीय मुद्रा रुपये से आसानी से किया जा सकता है 
तीरंदाजी यहां का राष्ट्रीय खेल  (  bhutan national game   ) है । 
17 वी शताब्दी में भूटान में बौद्ध धर्म अपनाया गया था ।  भूटान के  मूल निवासी  गांलोप हैं यहां की अधिकतम आबादी बौद्ध धर्म को मानती हैं । 
बौद्ध विचार यहां के लोगो की जिंदगी में अहम हिस्सा रखता है । 

खुशहाल जीवन  ( bhutan  happy life )
खुशहाली एक  आध्यात्मिक एवम मानसिक स्थिति है 
जिसमे व्यक्ति स्वयं एवम अपने चारों ओर के वातावरण में समन्वय स्थापित करता है । यहां के लोग कठिन पहाड़ी जीवन जीते हुए भी अत्यंत सम्पन्न ओर खुशहाल जीवन जीते हुए खुश रहते हैं 
इसलिए इस देश को " लैंड  आफ हैप्पीनेस " भी कहा जाता है  ।यहां के लोगो  की कठिन पहाड़ी जीवन एवम विषम परिस्थितियों  में रहकर भी खुश रहने की कला जानने के लिए  पहले अपने पारम्परिक मानदण्डों और भौतिकताबादी सोच को छोड़कर उनके जीवन मे वह रहे सन्तुष्टि और आनंद को समझना होगा । 

बौद्ध संस्क्रति एवम संरक्षण ( bhutan  culture and conservation )
भूटान की पहाड़ियों पर पांच रंगों के प्राकृतिक शक्तियों के प्रतीक के रूप में तिकोने झंडे लगाए जाते हैं । जिनमे सफेद रंग बादल का प्रतीक,  लाल रंग अग्नि का प्रतीक , नीला रंग आकाश का प्रतीक , हरा रंग जल का प्रतीक  एवम पीला रंग धरती का प्रतीक होता है ।
यहां बौद्ध संस्कृति   bhutan culture  के अनुसार प्रकृति को अहम हिस्सा माना गया है । बच्चों को यहां मुफ्त में शिक्षा दी जाती है । यहां की संस्क्रति और इतिहास का वर्णन  " पारो " में  स्थित राष्ट्रीय संग्रहालय में स्थित पुस्तको में एवम सांस्कृतिक एतीहासिक  अवशेष प्रतीक एवम चिन्हों में किया गया है ।

भूटान बौद्ध मठों एवम विहारों का प्रदेश है ।यहां बौद्ध अनुयायी पद्धसम्भव को दूसरे बुद्ध की तरह पूजा जाता हैं ।पारो" का इतिहास यहां पद्धसम्भव के आगमन से जुड़ा हुआ है ।
यहां वौद्ध परंपरा के अनुसार  पवित्र जंगलो  को काटना या नष्ट करना माना है । इसलिए दुनिया के सबसे अच्छे प्राचीन जंगल भूटान में पाए जाते हैं ।
यहां के बौद्ध मठों पर हजारों बौद्ध भक्त एकत्रित होकर प्रार्थना करते हैं  । 
मठ के भीतर विशाल प्रार्थना घंटी  बजती है ।

भूटान में पर्यटक स्थल ( turist places )


भूटान में प्राकृतिक वातावरण संस्क्रति यहां के मठ आदि पर्यटन के लिए महत्वपूर्ण भाग है । यहां पर्यटन हेतु स्थानों में  राजधानी थिम्पू , पारो , फुअंतशेलिंग , बुमथा , बोगाई गांव  जलदापार , कोकराझार एवम नलबाड़ी  प्रमुख हैं भूटान की दुर्गम पहाड़ियों एवम उनके बीच बनी घाटियों  में बने " पारो हबाई अड्डा " को सबसे खतरनाक हवाई अड्डा माना जाता है ।   ये तो भूटान के पायलटो की बेहतरीन कुशलता है कि इतने जोखिम क्षेत्र में भी वे कुशलता से हवाई जहाज उड़ाते हैं ।
भूटान में सबसे ऊंचा दर्रा  " चेलेला "" है जो साढ़े बारह हजार फीट की ऊँचाई पर स्थित है । यहां हमेशा कुछ बर्फ जमी रहती है चेलेला के ढलानों पर बेहद खूबसूरत पक्षी " मोनल "और दुर्लभ रक्तिम तीतर ( ब्लड फेंजेंट ) पाये जाते हैं ।मनुष्य से डरने बाले ये पक्षी बौद्ध भिक्षुओं से डरते नही है और निर्भीकता से घूमते रहते हैं ।


भूटान की कुछ विशेषताए जो इस देश को अन्य देशों से अलग करतीं है 

1  भूटान में पानी से बिजली का उत्पादन बहुतायत  मात्रा में होता है फिर भी  यहां बिजली का दुरूपयोग नही होता है ।2  चौराहों पर लाइट्स के स्थान पर पुलिस होती है 3  यहां  बहुमंजिला इमारतों में लिफ्ट नही लगाई जाती है 4  अभी भी यह देश अन्य देशों से अलग है यहां विदेशी प्रभावों से बचने हेतु विशेष अधिकारियों द्वारा निगाह रखी जाती है 5  पर्यावरण क्षेत्र में भूटान अग्रणी रहा है 1999 से यहां प्लास्टिक की थैलियों एवम तम्बाको पर पूर्ण प्रतिबंध है ।6  भूटान के पास नौ सेना नही है । पेड़ पौधे लगाना यहां के  लोगों का मुख्य शौक है8  आज भी यहां के लोग अपने राजा का आदर सम्मान करते हैं ।
भूटान में यहां की संस्कृति यहाँ के लोगो की सोच प्राकृतिक परिवेश संतोष का भाव एवम धर्म के प्रति सद्भाव  आज भी भूटान को अन्य सभी देशों से अलग करती है ।और उसी में उनकी खुशी और समृद्धि के भाव छिपे हुए हैं  । 



Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post